धारा 125 से बचाव के उपाय | Best Legale Advice 2022
Like and Share
धारा 125 से बचाव के उपाय | Best Legale Advice 2022
12,939 Views

धारा 125 – जब पति व पत्त्नी में अलगाव उत्त्पन होता है। तो पत्त्नी अपने पति के खिलाफ कानूनी कार्यवाही कर गुजारा भत्ता प्राप्त करने की डिमांड करती है। और यही बात पति के लिए तकलीफ का कारण बनती है। 

धारा 125 in Hindi – हम आज के समय में पति द्वारा दहेज ( Dowry ) का केस लड़ना या जितना कोई मुश्किल काम नही है | और  इसमें सबसे बड़ी परेशानी आती है अपनी पत्नी को में मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता देने की | और यह एक ये ही ऐसी चीज है

और जो की पति को पत्नियों के सामने झुकने के लिए मजबूर व कमजोर कर देती है | तथा पत्नी का अगर एक बार मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता कोर्ट द्वारा बंध गया तो वो केस को लंबा खीचने की कोशिश करती है | और दोस्तों आज हम इस एक पोस्ट में जानेगे की एक पति अपनी पत्नी को मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता देने से कैसे बचे, और यह  सारी जानकारी ( Information ) आपके उपर केस होने से पहले और केस होने के बाद में काम आएगी ?

मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता का केस ( Case ) होने से पहले पति क्या तयारी करे

1  – आप सबसे पहले अपने नाम से कार, व बैंक बैलेंस है और  उसे अपने भाई या बहन या चाचा या किसी के नाम कर दें! जिस पर आपको विश्वास हो , बैंक में ज्यादा रुपया पैसा नही रखे ।

2  – पत्नी को  आपकी सम्पति में रहने के अलावा कोई हक प्राप्त नही होता है और इसलिए सम्पति के लिए डरे या घबराए नही BUT  उसे अपने घर में नही घुसने दे | और अपने मकान को किराये पर दे दे |

3  – आपके माता व पिता के नाम घर हो तो उसके लिए केस ( Case ) करके उस घर पर स्टे ले | यह इसलिए की ताकि आप की पत्नी उस घर में नही घुस पाए | और अगर वो एक बार घर में आ गई तो केस लड़ने में व और उसे जितने में काफी परेशानी होगी | ( धारा 125 )

4  – आपकी अगर कोई पालिसी है जैसे की LIC तो आप उसे गोपनीय , छुपाकर रखे।

5  – आप जहां आप काम ( Work ) करते हैं व उसका ब्यौरा भी कभी नहीं देना चाहिए। और हो सके तो आप अपने इनकम ( Income ) को भी छुपाये | ( धारा 125 in Hindi )( धारा 125 in Hindi )
6  – आपके बच्चों की कस्टडी अगर पत्नी के पास है आप भी बच्चो की कस्टडी का केस ( Case ) तुरन्त लगा दे |
7  – आपकी पत्नी पहले क्या ( Work ) से कमाती थी व और अब कुछ काम ( Work ) कर रही है या नही और इसके सबूत इकठ्ठे करे |
8  – आप पत्नी की ऑडियो / विडियो रिकॉर्डिंग करे | वह इसलिए ताकि कोर्ट ( Court ) में आप उसका स्वभाव व चरित्र दिखा सके |

( Maintenance ) मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता का केस होने बाद पति क्या करे

( धारा 125 )

1 – मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता के केस ( Case ) होने पर आप कोर्ट ( Court ) में जाये , तो आप सबसे पहले पत्नी के पीटीशन ( याचिका ) की नकल निकलवायें। और जवाब देने में जल्दबाजी नही करें। आपके पास समय होता है | और आप इन दिनो में अपनी पत्नी के खिलाफ एविडेंस ( Evidence ) एकत्रित करें, व और पत्नी की पीटिशन ( याचिका ) के हर शब्दों का बारीकी से आकलन करें ।


यह भी पढ़े –

traffic police rights in India in hindi अपने अधिकार जानते है | Best 2021


( धारा 125 ) 

2  – पत्नी की पीटिशन ( याचिका ) की कॉपी में देखे की वो घरेलू हिंसा ( Domestic Violence ) की घटना और आपकी ( Income ) कमाई को कैसे दिखा रही है | और इसमें यह देखें की सबसे पहले की वह जो भी घटना बता रही हैं वह महीना व साल व तारीख समय उसमें है कि नही। और अगर नहीं है तो आप अपने जवाब में पोइंट मेंशन करें। कि वह घटना का दिन व महीना व साल समय नहीं बताया गया है क्योकि यह सब सच नही है । और आप अपनी पत्नी के हर पाइंट आफ व्यू को समझने की पूरी कोशिश अवश्य करें। और यह मैं सब बाते यहा लिख नहीं सकता हु, वह क्योंकि बहुत सारी बातें होती हैं |

धारा 125 से बचाव के उपाय ( images 1 )

( धारा 125 se kaise bache )

3  – पत्नी अपने आप को बेसहारा व असहाय बताये तो आप प्रश्न करें या अपने वकील द्वारा कि यह बेसहारा किस कारण से है और वह कारण बताये। और जब वह बेसहारा व असहाय है तो वह अपने पति के पास क्यों नहीं रहती है। या आ जाती , और वहां क्यों रह रही है वह कारण बताये । BUT  उसे आपको अपने घर भी नही लाना है|


Read Me – NEET-PG : सुप्रीम कोर्ट ने इंटर्नशिप की समय सीमा विस्तार के लिए उम्मीदवारों को केंद्र सरकार को प्रतिनिधित्व देने की अनुमति दी


4  – आपकी पत्नी बोलती है कि वह उसके पास आय का साधन कोई जरिया नहीं है | और वो ज्यादा पढ़ी लिखी नही है तो आप उसके जितनी पढ़ाई लिखाई के एविडेंस ( Evidence ) कोर्ट में प्रस्तुत करें। और यदि उसके सिलाई कड़ाई या कंप्यूटर आदि के जो भी सर्टीफिकेट , सोर्स हैं आप उसे पेश करें। और अगर आपके पास सिर्फ उन यूनिवर्सिटी या कॉलेज की जानकारी है और आपके पास पेपर नही है तो आप Section –  91 CRPC में एप्लीकेशन प्रार्थना पत्र लगा कर उन डॉक्यूमेंटस को उस यूनिवर्सिटी या डिग्री कॉलेज से पुलिस के द्वारा मागवा सकते है तथा  फिर अपनी पत्नी को देने के लिए मजबूर कर सकते है | ( धारा 125 se bachne ke upay )

5  – अगर आपकी पत्नी की कोई भी बात कोर्ट ( Court ) में झूठी साबित होती है और आप कोर्ट में Section – 340 crpc में आवेदन करे और कोर्ट आपकी पत्नी के खिलाफ F.I.R. के ऑर्डर  दे देगा | और इससे आपको कोर्ट में केस ( Case ) जितने में आसानी होगी |
6  – पति अपने आपको कोर्ट में कभी भी अपने आप को कोर्ट में क्वालिफाइड और पढ़ा लिखा शो ना करें, वह साधारण रूप से वेश – भूषा में पेश आये ।
7 – पति कोर्ट में टिप टाप बनकर या महगें कपड़े पहनकर ना जायें, वह बल्कि सामान्य वेशभूषा व सादे कपड़े पहन कर जाये। कभी भी अपना ऊँचा स्टैंडर्ड कोर्ट ( Court ) को नही दिखाये | ,( धारा 125 se bachav ke upay )

( धारा 125 se bachav ke tarike )

8  – पति कभी भी कोर्ट में जाए तो महंगी घड़ी, व चैन, व अंगूठी, व महंगा मोबाइल भी न लेकर जायें। और अगर आप अपना मोबाइल ले भी जाते हैं तो आप जेब में रखे, कोर्ट में आप नही दिखाए । क्योंकि जज साहब आपकी यह सब छोटी छोटी बातों को देखता है । और जो आप लोग नहीं समझते है । और जज साहब की मानसिकता यह  होती है की वो पति को एक बार देखकर ही वह सब आकलन करता है की वो कितना अमीर ( Rich Family ) से है. और वह कितने पैसे दे सकता है | और इसलिए इस बात भी पर विशेष ध्यान दें ।

9 – आप कोर्ट में अनावश्यक रूप से नही बोले आपको सिर्फ उतना जवाब दे की जितना की जज साहब पूछे । और पति हमेशा अपने वकील साहब को ही बोलने दे और अगर आप ज्यादा बोलेंगे तो आपसे जज साहब आपसे सब बातें निकलवाने के लिए आपको बातों में घूमायेगे । आपको इस पर विशेष तौर से ध्यान दें ।
10 – ( Maintenance ) मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता की बहस में आप तुरन्त अपने वकील द्वारा आपत्ति दे कि वह पत्नी को बैठे बेटे बिना काम किये रुपया पैसा नहीं देंगे |, ( धारा 125 in Hindi )( धारा 125 se bachav ke upay ) ,
10 – ( Maintenance ) मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता की बहस में आप तुरन्त अपने वकील द्वारा आपत्ति दे कि वह पत्नी को बैठे बेटे बिना काम किये रुपया पैसा नहीं देंगे |
11  – पति को चाहिए की वह  पत्नी की जितनी हो सके उतनी क्रुअल्टी बिंबित चिन्हित करने में फोकस करें। और किसी प्रकार  की आडियो या विडियो या किसी फिर डाकयूमेकट के आधार है तो वह और भी अच्छी बात होगी |
पति को चाहिए की वह  ऐसे किसी डाक्यूमेंट को कोर्ट में देने की कोशिश करें जिससे कि पत्नी मायके में ही ज्यादा समय ( Time ) गुजारती है और ऐसे डाक्यूमेंट जरुर कलेक्ट करें।
12  – आपने अपनी पत्नी ( Wife ) की शोपिंग की होगी ,और  उसे कही घुमाया होगा और इसके  ऐसे भी सबूत दे | और इसके अलावा आपने उसका डाक्टरी इलाज कभी करवाया हो या फिर किसी कोर्स किया हो तो उसके सबूत दे की आप उसे पूरी तरह खुश रखते थे | और वह ही  अपना घर खराब कर रही है |13 – आप कोर्ट में यह कोशिश  करें कि और यह  ही कहे की आप उसे रखना चाहते हैं बस आप इसी बात पर अडे़ रहें |
14 – जब भी आप पर मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता का केस ( Case ) होता है। आप भी अपने माता पिता के द्वारा अपने ऊपर मेन्टीनेंस का केस ( Case ) लगवा लें | और अगर आपकी सैलरी अच्छी है तो या आप सरकारी नौकरी करते हैं तो यह आप  जरुर यह करें।
15 – आपकी पत्नी ने आप पर घरेलू हिंसा एक्ट का केस किया है और आप भी अपनी मां से या बहन से DV घरेलू हिंसा एक्ट का केस अपनी पत्नी और उसकी फैमिली पर अवश्य  करें | इससे आपकी पत्त्नी के उपर दबाब भी बनेगा | , ( धारा 125 se kaise bache )( धारा 125 se bachav ke upay ) ,
16 – जब आपकी पत्नी आपके ऊपर मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता का केस करें तो आपको  भी अपनी पत्नी पर मेन्टीनेंस का केस ( Case ) जरुर करे। और  जिसमें आप कोर्ट ( Court ) में आने जाने का खर्चा वकील का ख़र्च की मांग कर सकते है। और आप  चाहे तो उसमें कुछ हो ना हो।पर आप जरुर पत्नी से मेन्टीनेन्स ( Maintenance ) लेने का केस लगा ही दे। जिससे  उस पर दबाव बनेगा |
17  – मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता के केस ( Case ) में अन्तरिम की बहस जल्दी से जल्दी कराने की पूरी कोशिश करें और आप उस पर हाईकोर्ट ( High Court ) से स्टे व फाइनल पर बहस की जल्दी से जल्दी की कोशिश करें। केस जल्दी ख़त्म ( End ) होने में पति का फायदा है , ( धारा 125 )
धारा 125 crpc in hindi ( images )


18 – आप पर अगर कोर्ट मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता बांधता है आप घबराये नहीं उपर हाईकोर्ट ( High Court ) या सेशन कोर्ट से स्टे के लिए अपील या रिवीजन पर जाये। और शायद आपका खर्चा कम हो जाए |
19  – किसी भी हाल ( पोजिशन ) में मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता केस से डरकर जल्दी समझौता ( कम्प्रोमाइस ) किसी तरह करने की कोशिश ना करें।और ना ही कोई शर्त पत्नी की मानें। वह इसलिए  शुरुआत आपके लिए जरुर दुखद है व  बाद में आपकी पत्नी के लिये दुःखद होगी और जब उसे कुछ भी मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता नही मिलेगा | , ( धारा 125  in Hindi )

धारा 125 – आप कोशिश यह करें कि आप अपनी पत्नी के सामने इस तरह से पेश आये या मिले कि आप डिप्रेशन या मानसिक तनाव में नहीं है और मन और मस्तिष्क में टेंशन , परेशानी ना रखकर रिलेक्स रहे। और यह याद रखें की फैमिली मैटर में कोई सजा या जेल का प्रावधान , नीयम नहीं है व इसलिए डरे तो बिल्कुल भी नही। तथा सिर्फ मेंटेनन्स नही देने पर सजा है और इसके अलावा और कुछ भी नही |

धारा 125 – आपके लिए सबसे जरुरी बात यह है।  की आप इसके लिए किसी एक्सपर्ट व अनुभवी और अच्छे वकील साहब को नियुक्त करे | तथा आप सस्ते वकील साहब के चक्कर में नही पड़े | और अगर आपके वकील साहब ( Lawyers ) ने आपका मेंटेनन्स / गुजरा भत्ता का चार्ज बढ़ने से बचा लिया या फिर गुजारा भत्ता कम बधने दिया तो सोचये आप कितने पैसे बचा लेंगे