Like and Share
322 Views

  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Faridabad
  • Municipal Corporation’s Superintending Engineer And Clerk Arrested Red Handed Taking Bribe Of Rs 1.40 Lakh For Passing The Contractor’s Bill

फरीदाबाद14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एसई के पास से 50 हजार व क्लर्क के पास से रिश्वत के 90 हजार रुपए स्टेट विजिलेंस ने किया बरामद।( पकड़े गए एसई रवि शर्मा की फोटो)

  • ठेकेदार ने वार्ड 38 में बनवाया था सामुदायिक भवन, उसका बिल व कंप्लीशन था बकाया

भ्रष्टाचार का अड्‌डा बना नगर निगम एक बार फिर चर्चा में है। यहां एक ठेकेदार का बिल पास करने के बदले 1.40 लाख रुपए की रिश्वत लेते सुपरिटेंडिंग इंजीनियर(एसई) रवि कुमार शर्मा और अकाउंट ब्रांच में तैनात क्लर्क रवि शंकर शर्मा काे स्टेट विजिलेंस की टीम ने रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।

एसई के पास से 50 हजार रुपए और क्लर्क के पास से 90 हजार रुपए बरामद हुए हैं। दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। विजिलेंस की इस कार्रवाई से नगर निगम मुख्यालय में हड़कंप मच गया। और भी रिश्वतखोरों के पकड़े जाने के डर से इंजीनियरिंग और अकाउंट ब्रांच के अधिकारी व कर्मचारी अपनी अपनी सीटों से गायब मिले। स्टेट विजिलेंस की टीम ने ये कार्रवाई ठेकेदार की शिकायत पर की। बताया जा रहा है कि बिल पास करने के बदले ठेकेदार से 1.20 लाख रुपए की डिमांड की गई थी। सौदा 90 हजार में तय हुआ था।

रिश्वतखोरी का ये है पूरा मामला

विभागीय सूत्रों ने बताया कि योगेश नामक ठेकेदार ने एक साल पहले बल्लभगढ़ के वार्ड नंबर 38 में एक सामुदायिक भवन बनवाया था। उसका उदघाटन भी हो चुका है। लेकिन ठेकेदार का कुछ बिल और कंपलीशन बकाया था। उसे कराने के लिए जब ठेकेदार एसई रवि कुमार शर्मा और क्लर्क रविशंकर शर्मा से संपर्क किया तो उसके बदले रिश्वत मांगी। स्टेट विजिलेंस के एसपी अभिषेक जोरवाल ने बताया कि कंप्लीशन देने के लिए एसई रवि शर्मा ने ठेकेदार से करीब डेढ़ माह पहले एक लाख रुपए ले चुके थे।

निगम एसई को पकड़कर ले जाती विजिलेंस की टीम

निगम एसई को पकड़कर ले जाती विजिलेंस की टीम

पांच दिन पहले ठेकेदार ने की थी शिकायत

एसपी ने बताया कि शिकायतकर्ता ठेकेदार ने रिश्वत मांगने की शिकायत पांच दिन पहले की थी। इसके लिए एसई और क्लर्क को एक साथ रंगे हाथ पकड़ने की योजना बनाई गई। क्योंकि एक को पकड़ने पर दूसरा सतर्क हो जाता। उन्होंने बताया कि मंगलवार को की गई कार्रवाई में एससी के पास से रिश्वत के 50 हजार और क्लर्क के पास से 90 हजार रुपए बरामद किए गए हैं। िनगम के दोनों अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई मंगलवार सुबह करीब 11.30 बजे की गई।

रिटायर होने के बाद दोबारा किए थे ज्वाइन

बता दें कि एसई रवि कुमार शर्मा नगर निगम के एसई पद से 31 अक्टूबर 2021 में रिटायर हो गए थे। इसके बाद इन्होंने सांठगांठ करके रि-इप्लाइमेंट के जरिए दोबारा एसई पद पर ज्वाइन किया था। इनका कार्यकाल 3 नवंबर 2021 से दो नवंबर 2022 तक है। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि इन्हांेने निगम मंें ही जेई से ज्वाइनिंग करने के बाद एसडीओ और एक्सईएन भी रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि एसई के पास इस वक्त एनआईटी र्वा नंबर 1, 3, 5 से 10 वार्ड, बल्लभगढ़ का वार्ड 2, 4, 35 से 40, इलेक्ट्रिकल, स्टोर, परचेज और व्हीकल का चार्ज है।

रिश्वत लेने के आरोप में पकड़ा गया क्लर्क रविशंकर शर्मा

रिश्वत लेने के आरोप में पकड़ा गया क्लर्क रविशंकर शर्मा

करियर शुरू होने से पहले हो गया खत्म

रिश्वत लेने के आरोप में पकड़ा गया अकाउंट ब्रांच का क्लर्क रवि शंकर शर्मा मूलरूप से महेंद्रगढ़ के गांव बाधोत का रहने वाला है। वर्ष 2020 में ही इसने हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन के जरिए क्लर्क पद पर नगर निगम में ज्वाइन किया था। अभी वह प्रोबेशन पीरियड मंे चल रहा था। इनके सहयोगियों की मानें तो आगामी 21 फरवरी की इसकी शादी होने वाली है। इन दिनों वह छुट्‌टी पर चल रहा था। उसे मंगलवार को फोनकर बुलाया गया था। अब इस मामले में निगम का कोई अधिकारी बाेलने को तैयार नहीं है।

खबरें और भी हैं…