Business Startup क्यों ,कैसे शुरु करें, Best Skill Tips 2022
Like and Share
Business Startup क्यों ,कैसे शुरु करें, Best Skill Tips 2022
362 Views

Business Startup – स्टार्टअप अमेरिका में बोला जाने वाला फेमस शब्द है। इस शब्द का अर्थ होता है वह यूनिक Ideas जो आपके दिमाग में आते है और जो जल्दी से कॉपी नहीं किए जा सकते है और वह बिजनेस का रूप धारण कर लेते है। 

Business Startup Idea – कोरोना महामारी के वक्त कई प्रकार के ऐसे शब्द रहे है। जो लोगों की जुबान पर चढ़ आए। इनमें से एक नाम है “स्टार्टअप” ( Startup ) | आपने भी कुछ दिनों से यह शब्द खूब सुना होगा। EXP – मेरा स्टार्टअप, और उसका स्टार्टअप, व इसका स्टार्टअप। स्टार्टअप का अर्थ क्या होता है हर किसी नए बिजनेस या काम की शुरुआत। कोरोना महामारी में ढेरों लोग बेरोजगार हो गए तथा उनमें से कई ने अपना स्टार्टअप शुरू किया।

पहली बार Sony Tv चैनल पर भी स्टार्टअप और बिजनेस से रिलेटेड वर्ड सुनने को मिले , और इसकी वजह एक नया टीवी शो शुरू हुआ – शार्क टैंक इंडिया के नाम से |

Business Startup Tips – शार्क टैंक इंडिया ( Shark Tank India ) एक अमेरिकी शो पर आधारित है। इस शो का मकसद था की लोग अपने-अपने बिजनेस आइडिया लेकर आए और शो के पैनल जज को उस बिजनेस ( Business )में पैसे इनवेस्ट करने के लिए मनाते हैं। जिसका आइडिया Idea Best  होता है या शो जज को  (पूरे पैनल) को पसंद आ जाता है। शार्क्स के जज उसके बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए अपना इन्वेस्टमेंट करते हैं। वह जितने रूपए मांगते है इसके बदले में कम्पनी की कुछ इक्विटी ( Equity ) लेते है। 

आप इसको उदाहरण से भी समझ सकते है। 

EXP – 1 , मान लीजिए XYZ कोई कंपनी है। और उसके 10 लाख शेयर होते है। और आपने कंपनी के 1 लाख शेयर खरीद लिए तो आपकी उस कंपनी में 10 प्रतिशत की हिस्सेदारी या इक्विटी कहलाती है। उसी प्रकार आपने 10 हजार शेयर ख़रीदे तो आप 1 प्रतिशत हिस्सेदारी के मालिक हो गए। 

Startup in Hindi – इस शो ने सभी सेक्टर में Work  करने वाले लोगों के मन में ज्यादा दिलचस्पी पैदा की , लेकिन उन लोगों को इसे समझने में थोड़ी मुश्किल भी  हुई, जो लोग बिजनेस और फाइनेंस की दुनिया के बारे कम या कोई भी Information नहीं रखते हैं।

आज Important  खबर में हम आपको बताएंगे बिजनेस/स्टार्टअप से जुड़े उन कॉमन Word  के बारे में जिन्हें स्टार्टअप शुरू करने से पहले आपको भी जानना चाहिए। ( Startup kya hai ) 


Read Me – सुप्रीम कोर्ट करेगा तय कि क्या कट-ऑफ के आधार पर पेंशनभोगियों का वर्गीकरण अनुच्छेद 14 का उल्लंघन है?


B to B बिजनेस क्या है। :

Business Startup in Hindi – इसका अर्थ होता है।  बिजनेस टू बिजनेस। एक उदाहरण द्वारा भी  समझ सकते  हैं। माना कोई कंपनी साबुन फेसवॉश बनाती है। और अब अगर यह कंपनी अपने साबुन या फेसवॉश ग्राहकों के बजाय अलग-अलग होटलों, रेस्टोरेंट  को बेचती और आगे यह  होटल अपने यहां ठहरने वाले ग्राहकों ( Customer ) को ये साबुन या फेसवॉश देते हैं।

और ऐसे बिजनेस को हम B to B यानी की बिजनेस टू बिजनेस कहते हैं। और इसमें प्रोडक्ट या सर्विस ( Dirct )  ग्राहकों के बजाय किसी दूसरे बिजनेस को बेचा जाता है। और यहां दूसरा बिजनेस होटल है।

Business Startup( images by Dainik Bhaskar )

B to C बिजनेस क्या है। :

Startup in Hindi – इसका अर्थ होता है।  बिजनेस टू कन्ज्यूमर ( Business to Consumer ) , इसमें कोई कंपनी, या फर्म या स्टार्टअप अपने प्रोडक्ट या सर्विस सीधे ( Dirct ) ग्राहकों को बेचती है। और इसे भी एक उदाहरण से समझ सकते है। और अगर साबुन या फेसवॉश बनाने वाली कोई कंपनी अपने साबुन या फेसवॉश सीधे ग्राहकों को बेचती है तो ऐसे बिजनेस को हम B to C कहते हैं।

वैल्यूएशन (Valuation) क्या होता है।

Business Startup in Hindi – जब आप किसी बिजनेस या कंपनी की इकोनॉमी वैल्यू की गड़ना या कुल कीमत निकालना  ही वैल्यूएशन कहलाता है। इसे आप इस प्रकार  समझा जा सकता है कि आपकी इस कंपनी की कितनी कीमत होगी। जैसे- जब कभी आप अपना सामान बेचने जाते हैं तो उसकी शेयर कीमत या क्वालिटी देखकर कीमत का अंदाजा लगाया जाता है। और उसके बाद फाइनल वैल्यूएशन के बाद उस वस्तु , सामान को बेचा जाता है।

इसका कब यूज होता है। 

  • किसी या फिर अपनी कंपनी को बेचने के लिए।
  • पार्टनरशिप या ओनरशिप ( Ownership ) के लिए।
  • या फिर टैक्सेशन के लिए।

प्री- रेवेन्यू (Pre Revenue) क्या होता है। 

Best Startup in Hindi – प्री रेवेन्यू का अर्थ किसी भी तरह की कमाई या खर्च नहीं है, यह बल्कि इसके जरिए एक मोटा अंदाजा लगाया जाता है कि आप अपने बिजनेस ( Business ) में कितना कमा सकते हैं।


Read Me –

Kamkaji Mahila Ke Adhikar || Best New Indian Woman Law 2021


मार्जिन (Margin) क्या होता है। 

Startup – किसी भी प्रोडक्ट को बनाने में लगी कीमत और उसे बेचने ( Sell ) के बाद आने वाले प्रॉफिट के बीच में जो अंतर होता है उसे ही आप मार्जिन या प्रॉफिट मार्जिन कहते हैं।

जैसे की – मान लीजिए आप किसी कंपनी को चॉकलेट बनाने, या पैक करने, या डिलीवर करने और सभी एक्सट्रा खर्चों को जोड़ने के बाद जो  2.5 रुपए की लागत आती है और वह  कंपनी अपनी चॉकलेट 5 रुपए में बेचती है। तो फिर इस प्रोडक्ट का मार्जिन प्रॉफिट होगा 50 परसेंट।

Business Startup ( images - 1 by Dainik Bhaskar )

इक्विटी (Equity) क्या होता है। 

 Startup for Equity – इक्विटी का मतलब आप इस प्रकार समझ सकते है। आप  किसी कंपनी में दूसरे इंवेस्टर की हिस्सेदारी का होना ,  आप जब कभी भी  किसी को अपने बिजनेस के या बिजनेस आईडिया के बारे में बताते हैं तो आप फिर उससे कहते हैं कि हम आपके इतने रूपए के इंवेस्टमेंट के बदले इतने पर्सेंट इक्विटी देने को तैयार हैं।

जैसे की – मान लीजिए कि आपने मुझसे कहा की  1 करोड़ का इंवेस्टमेंट चाहिए। और इसके बदले में सामने वाले को 10 पर्सेंट इक्विटी दूंगा/दूंगी। तो फिर इसका सीधा मतलब है कि रूपए लगाने वाले को आपके बिजनेस में 10 पर्सेंट की हिस्सेदारी मिलेगी।

एंटरप्रेन्योर (Entrepreneur) क्या होता है। 

 ऐसे लोग जो अपने आप  खुद का बिजनेस शुरू करते हैं और फिर मैनेजमेंट से लेकर फायदा-व नुकसान हर चीज का रिस्क लेते हैं, और उन्हें एंटरप्रेन्योर कहते हैं।

एंजेल इन्वेस्टर (Angel Investor) क्या होता है। 

Startup –  छोटे बिजनेस स्टार्टअप या एंटरप्रेन्योर को ऐंजल इन्वेस्टर पैसे से मदद करते हैं। और इन्हें प्राइवेट इन्वेस्टर, या सीड इन्वेस्टर और ऐंजल फंडर भी कह सकते  हैं। और ज्यादातर ऐंजल इन्वेस्टर, एंटरप्रेन्योर के परिवार और मित्रों के बीच से ही पाए जाते  हैं। और ऐसा भी होता है कि ऐंजल इन्वेस्टर किसी कंपनी में एक बार ही फंड इन्वेस्ट करते हैं, और ताकि कंपनी शुरुआती समस्याओं से उबर सके और फिर मजबूती से जमीन पर उतर कर अपने बिजनेस को बढ़ा सके।

ओवरहेड(Overhead) क्या होता है। 

 ओवरहेड वह  खर्चा नहीं होता है जो आप पर किसी सामान को बनाने या डिलीवर करने में आती है; यह बल्कि इसके अलावा जो खर्चा होता है, जैसे की – गोदाम का किराया, या ऑफिस का रेंट, या किसी की लीगल फीस या कोई इंश्योरेंस। और ऐसे खर्चों को ओवरहेड कहते हैं।

रॉयल्टी (Royalty) क्या होता है। 

 Startup in Hindi – आप इसे उदाहरण से जान सकते है। की  आपने कोई पेन बनाई और आप इसे पेटेंट करवा लिया। और उस पेन का कॉपीराइट, व लोगो, व ट्रेडमार्क सब कुछ आपका है, लेकिन यह  पेन ग्राहकों तक कोई थर्ड पार्टी बेचना चाहती है। तो फिर उसे हर पेन के पीस की सेल-प्राइस का कुछ अंश  आपको, यानी असली मालिक को देना होगा। और इसे ही रॉयल्टी कहते हैं।