UK High Court Judgement || आदमी को “गंजा” कहना “यौन उत्पीड़न” है || Best Law News 2022
Like and Share
UK High Court Judgement || आदमी को “गंजा” कहना “यौन उत्पीड़न” है || Best Law News 2022
115 Views

UK High Court – ब्रिटेन की एक रोजगार न्यायपालिका के न्यायाधीश ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया है अदालत ने अपने निर्णय में कहा -कि एक आदमी को गंजा कहना उसका यौन उत्पीड़न के समान है।

Uk High Court – ट्रिब्यूनल न्यायलय के तीन सदस्यों के अनुसार, महिलाओं की तुलना में पुरुषों में गंजापन अधिक पाया जाता है व यह आम बात है, और जिन्होंने यह फैसला सुनाया तथा बालों के झड़ने के साथ अपने स्वयं के साथ हुए अनुभवों की ओर इशारा किया।

Uk High Court – नतीजतन यह कि – उन्होंने यह तर्क दिया कि एक अपमान के रूप में “गंजा” शब्द का उपयोग करना “संरक्षित यौन विशेषता” से संबंधित उच्चारण था।

UK High Court -जुडिशरी ने साल -1995 के एक मामले के आधार पर, अदालत ने एक पुरुष को गंजा कहने की तुलना एक महिला के स्तनों के आकार पर टिप्पणी करने के समान ही समझा है।

UK High Court – आर्डर उस मामले के तहत किया गया था जिसमें कथित तौर पर पीड़ित व्यक्ति व अपमान का प्रयोग टोनी फिन के खिलाफ किया गया था, और जब वह एक ब्रिटिश बंग मैन्युफैक्चरिंग कंपनी के लिए इलेक्ट्रीशियन के रूप में कार्यभार का पद संभाले हुए थे।

UK High Court Judgement – फिन ने कंपनी में लगभग 24 साल काम करके बिताए थे, और जो यह इंग्लैंड के उत्तर-पूर्व में यॉर्कशायर ( Yark Shayar ) में शराब बनाने वाले फैक्ट्री के लिए लकड़ी के कास्क क्लोजर बनाती है।

फिन को पिछले साल काम से निकाल दिया गया था, और उनको काम से निकालने की आसपास की परिस्थितियों की भी जांच की गई थी।

UK High Court – जुलाई साल – 2019 के एक विवाद में, फिन ने यह दावा किया है। कि उनके साथ में शिफ्ट सुपरवाइज़र, जेमी किंग, ने उन्हें “गंजा सी–” कहकर पुकारा और उन्हें साथ में धमकी भी दी।


Read Me –

Thomas Cup 2022: चैंपियन बनने के बाद टीम इंडिया को पीएम मोदी ने किया फोन, बोले- आप सबने कमाल कर दिया, देखें वीडियो


UK High Court – ट्रिब्यूनल ने यह निर्णय सुनाया कि इस अपमान शब्द का उपयोग “दावेदार जो [फिन] की गरिमा का उल्लंघन था, और इसने उसके लिए एक डराने वाला किसी सवप्न का वातावरण बताया | और यह इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए किया गया था। और यह दावेदार नाम फिन के लिंग से संबंधित था।”

UK High Court News – ट्रिब्यूनल के सभी सदस्यों ने कहा, “हालांकि यह , जैसा कि हम यह पाते हैं, इस वेस्ट एरिया यॉर्कशायर कारखाने के फर्श पर यह औद्योगिक भाषा आम बात थी,


यह भी पढ़े –

“Allahabad High Court Say – बेईमान वादी से आजकल सावधान रहना चाहिए, वह किसी भी दशा में अपने पक्ष में जजमेंट चाहते है | Best Legal News 2022”


और हमारे निर्णय में मिस्टर किंग ने पीड़ित दावेदार को उसकी प्रजेंटेशन के बारे में व्यक्तिगत टिप्पणी करके हद पार कर ली।”

अतः श्रीमान ट्रिब्यूनल के फैसले के परिणामस्वरूप पीड़ित फिन मुआवजा प्राप्त करने के लिए राजी है, और अभी हालांकि धन राशि अभी तक निर्धारित नहीं की गई है।