Indian Railways Rules पैसेंजर्स केअधिकार क्या है | Best 2021
Like and Share
Indian Railways Rules पैसेंजर्स केअधिकार क्या है | Best 2021
277 Views

Indian Railways Rules – ट्रेन में यात्रा के समय हमको बहुत से अधिकार प्राप्त होते है। इन अधिकारों को न जानते हुए कई बार परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जिस कारण समय और पैसा दोनों ही बर्बाद होता है। 

Indian Railways Rules – India में , अधिकाँश व्यक्ति ट्रेन से ही यात्रा करते है। क्योकि सभी भारतीयों को ट्रेन से यात्रा करने में सुविधा होती है व साथ ही ट्रेन की यात्रा सस्ती यात्रा के लिए मशहूर है। और छोटे – बड़े सभी मार्गो को जोड़ती है। इसलिए भारतीय रेलवे विश्व की चौथी बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में जाना जाता है। 

रेलवे से जुड़े सभी तथ्यों को जानने के लिए ( 99 kanoon .com ) में आपका स्वागत है। 

Indian Railways Ticket Checking Rules in Hindi

Indian Railways Rules – आप टिकट लेकर यात्रा पर जाते है। और आपकी यात्रा लम्बी होती है। और इस सफर के समय आपको रेलवे के बहुत से नियमों का पता नहीं होता है। जिस कारण आपको परेशानी होती है। यह जानकारी आपके लिए जरुरी हो सकती है। की रात को ( 10 बजे के बाद ) टिकट चैक करने के लिए ( टी o टी o ई o , TTE ) जगा कर टिकट नहीं देख सकता। 

नोट – यह नियम उन व्यक्तियों पर लागु नहीं होता है। जिन्होंने एक या दो स्टेशन आने से पहले की टिकट बुक किया है। या जिनकी यात्रा 10 बजे के बाद शुरू होती है। 

Train Middle Seat Rules

Indian Railways Rules – ट्रेन में यात्रा के समय आपने स्लीपर क्लास में टिकट बुक किया है। और आपको मिडिल बर्थ की सीट कन्फर्म हुई है। ऐसे में कई यात्री शुरू में ही मिडिल बर्थ की सीट खोल लेते है। जिस कारण लोअर बर्थ के यात्री को परेशानी उठानी पड़ती है। व कई बात कहा – सुनी तक पहुँच जाती है। 

Indian Railways Rules – आपकी जानकारी के लिए बतादूँ की रेलवे विभाग ने इसके लिए भी नियम बनाए है। जिससे किसी भी अन्य यात्री को असुविधा न हो। रेल विभाग के नियमनुसार मिडिल बर्थ पैसेंजर रात को ( 10 बजे से 6 बजे तक ) ही सो सकता है। ऐसे में अगर कोई पैसेंजर पहले मिडिल बर्थ खोलता है। तो लोअर बर्थ पैसेंजर उसको रोक सकता है। 

ट्रेन छूट जाने की स्थिति में क्या करें 

Indian Railways Rules – आपकी ट्रेन किसी कारणवश छूट गई है। टिकट चैकिंग अधिकारी ( 1 घण्टे के इन्तजार ) के बाद ही किसी अन्य यात्री को टिकट प्रदान करेगा। सामान्य भाषा में इसका अर्थ यह हुआ की आपने अगले दो स्टेशन तक गाड़ी नहीं पकड़ी तो टिकट चैकिंग ऑफिसर को अधिकार होता है की आपकी सीट किसी और दे। 


इसकी भी जानकारी लें  –( Cheque Bounce) चेक बाउंस केस से बचने के उपाय | Best 2021


ट्रेन छूटने पर रिफंड मिलने का नियम 

Indian Railways Rules – पैसेन्जर्स की सुविधा को ध्यान रखकर रेलवे बोर्ड ने नियम बनाया है। BUT सभी को यह नियम नहीं पता है जिस कारण लोगों को टिकट का नुकसान उठाना पड़ता है। टिकट के रिफंड प्राप्त करने के लिए आपको टिकट कैश काउंटर एक जमा रसीद फॉर्म भरना होता है। जैसे ही इसको अप्रूवल मिलता है। टिकट अमाउंट का 50 % आपको मिल जाता है। 

ट्रेन में चिड़िया ले जाने का नियम 

Indian Railways Rules – आप ट्रेन में अपने साथ चिड़िया को ले जाना चाहते है इसके लिए रेलवे डिपार्टमेंट कुछ नियम बनाए है। जिनका पालन करना जरुरी है। चिड़िया को ले जाने के लिए आपको एक फॉर्म भरकर देना होगा। चिड़िया को रेगुलर कोच में ले जाने की अनुमति नहीं है। आप सिर्फ लगेज कोच द्वारा ही ला सकते है। इस नियम को रेल विभाग के अध्याय -10 में देख सकते है। 

नोट – रेलवे विभाग किसी भी प्रकार से विदेशी पक्षी लाने – जाने की अनुमति प्रदान नहीं करता है। और तोता पक्षी को इसी श्रेणी में रखा है। इसलिए किसी भी प्रकार की बूकिंग से पहले काउण्टर पर जाकर सभी नियम जान लें। 


Read Me – Railways Cases – Indian Kanoon 


ट्रेन यात्रा बीच में रोकने पर रिफण्ड 

Indian Railways Rules – आप टिकट बुक कर यात्रा कर रहे है। और ट्रेन यात्रा के समय गाड़ी बीच में ही रोक दी जाती है। गाड़ी रोकने के कारण कुछ भी हो सकते है। जैसे – प्राकृतिक आपदा का आना , भूस्खलन हो जाना , तकनीकी समस्या का आना या बाढ़ आना आदि समस्याएँ हो सकती है। इससे यात्रियों को बहुत परेशानी होती थी रेल विभाग ने इस प्रॉब्लम को दूर करने के लिए वैकल्पिक साधन उपलब्ध कराता है। 

रेल विभाग द्वारा रिफण्ड की व्यवस्था की गई है। जिस स्टेशन पर गाड़ी रुकी है वहाँ के स्टेशन मास्टर को अपना टिकट बुक कराना होगा। और आपको टिकट के रूपए वापस मिल जाएगे।