Kamkaji Mahila Ke Adhikar || Best New Indian Woman Law 2021
Like and Share
Kamkaji Mahila Ke Adhikar || Best New Indian Woman Law 2021
336 Views

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – कामकाजी महिलाओं के अधिकार क्या होते है। वह किस प्रकार समाज में अपनी सुरक्षा के दायित्व का निर्वहन करें। कैसे वह समाज में अपनी कार्य कुशलता का लोहा मनवाए। 

घर – परिवार में अक्सर यह शिक्षा दी जाती है। की शादी के बाद चूल्हा – चोका या बच्चों की देखभाल ही करनी है। परन्तु जिस प्रकार सामाजिक परिवर्तन एक अटल सत्य है। उसी तरह समाज के सभी वर्गों में भी परिवर्तन भी संभव है। 

समाज में महिलाओं के योगदान को मह्त्वपूर्ण माना जाता है। क्योकि जिस समाज की महिला ज्यादा जागरूक होगी समाज भी उतनी जल्दी तरक्की करेगा साथ ही महिलाओं की आर्थिक स्थिति भी सुद्रण होगी।  BUT  महिलाओं को अपने अधिकारों का भी पता होना चाहिए 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – आज हम इसी विषय में पूरी जानकारी प्राप्त करेगे ( 99 Kanoon वेबसाइट ) इस प्रकार की जानकारी आपको प्रोवाइड कराती है। 

महिलाओँ को सामान वेतन के अधिकार की प्राप्ति 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – भारतीय कानून में समान पारिश्रमिक ACT – 1976 के अनुसार किसी एक पद पर समान WORK चाहे महिला हो या पुरुष करते हुए  समान मजदूरी मिलेगी भारतीय कानून के अनुसार कोई भी कम्पनी किसी पद पर भर्ती या प्रमोशन या रहते हुए भेदभाव करेगा वह कानूनन अपराध की श्रेणी में आता है। और उसके खिलाफ कानूनी नोटिस जारी कर हर्जाना भी मांगा जा सकता है। 

महिलाओँ  को मातृत्व लाभ प्राप्त होने की विधिः 

भारतीय कानून में  मातृत्व लाभ संशोधन ACT – 2017 के अनुसार कम्पनी या फैक्ट्री में कार्य करती है। ऐसी महिलाओं को बच्चा होने की स्थिति में ( 8 हफ्ते पहले ) व बच्चा होने के बाद ( 18 हफ्ते ) का वेतन सहित छुट्टी प्राप्त करने का अधिकार है। इस प्रकार से यह कुल ( 26 सप्ताह ) का बैड रेस्ट हुआ। और बाद में Work फ्रॉम Home की कुछ दिनों तक डिमांड भी कर सकती है। 

घरेलू हिँसा से सम्बन्धित सुरक्षा का अधिकार 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – घरेलू महिला हिंसा संरक्षण अधिनियम – 2005 के अनुसार किसी भी महिला से मारपीट , मानसिक प्रताड़ना , या लिव – इन रिलेशनशिप में रहते हुए महिला को सुरक्षा प्रदान करती है। 

FREE में कानूनी HELP का अधिकार 

दुष्कर्म पीड़ित महिला को फ्री में कानूनी सहायता मिलने की सुविधा प्राप्त है। सम्बन्धित थाने का इन्कवारी ऑफ़िसर पीड़िता को विधि वकील की सुविधा सुनिश्चित करें। 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – दुष्कर्म से पीड़ित महिला को यह अधिकार प्राप्त है। की वह किसी newspaper , या मिडिया में अपना न छपवाए। अपनी गोपनीयता की हिफाजत करना महिला के अधिकार क्षेत्र में आता है। पीड़ित महिला अपना बयान एकांत में महिला पुलिस , जिलाधिकारी व मजिस्ट्रेट के समक्ष दे सकती है। 

महिला को सम्पत्ति का अधिकार 

हिन्दू उत्तराधिकार अधिनियम – 2005 के अनुसार पैतृक सम्पत्ति में भी पुत्र के साथ पुत्री का भी समान अधिकार प्रदान किया है। 

रात के समय महिलाओं को हिरासत में नहीं लिया जा सकता व सूरज उगने से पूर्व तक की स्थिति लागू रहेगी।  


इसे भी पढ़े  –Difference Between Lawyer And Advocate || Best 2021


कामकाजी महिलाओँ  के फायदे 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – कामकाजी महिलाए होना एक बड़े गर्व की बात होती है। यह घर के आर्थिक बजट को सुमेलित करने का कार्य करती है। और यह पुरुष के साथ कन्धे से कन्धे मिलाकर चलती है। अब महिलाओँ को सरकार द्वारा विभिन्न क्षेत्र – स्वास्थ्य , रेल सेवा , पुलिस आदि में अपनी उपयोगिता दर्शाती है। 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar ( images 1 )

1 – आर्थिक रूप से मजबूत बनना 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – महिला अपना कार्य या नौकरी करती है। वह आर्थिक रूप से स्वावलम्बन बनती है। प्रसिद्ध डा o  मनोविशेज्ञ विपुल सिंह जी का कहना है की जो महिलाए आत्मनिर्भर होती है। वह रूपए को सही जगह निवेश कर बेहतर रिजल्ट प्राप्त करती है। और उनके आत्मविश्वास में इजाफा होता है। 

2 – प्रतिदिन नया सिखने को मिलना 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – नौकरी पेशा या बिजनेस से सम्बंधित महिलाओँ को प्रतिदिन अपने कार्य से सम्बन्धित कुछ नया सिखने को मिलता है। क्योकि किसी भी सफलता को प्राप्त करने के लिए विषय की जानकारी मह्त्वपूर्ण है। और अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा के साथ उन्हें अच्छा नजरिया भी दिलाने में सक्षम होते है। 


Read Me – जानिए महिलाओं से संबंधित भारतीय कानून


3 – समय के साथ कदम -ताल मिलाने की क्षमता हासिल होना 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – देश जिस प्रकार से तरक्की करता है। उसी तरह से सभी क्षेत्र की इकॉनोमी में भी बदलाव आता है। और समय के साथ विभिन्न परिस्थितयों का सामना करने की शक्ति हासिल होती है। तथा वह अपने इस तजुर्बे को कार्यक्षेत्र में व घर में यूज़ करती है। 

भारतीय सविंधान में महिलाओं को उच्च स्थान मिलना 

Kamkaji Mahila Ke Adhikar – भारतीय सविधान के अनुछेद – 15 ( 3 ) में प्रत्येक राज्य महिलाओं के अधिकारों के लिए विशेस कानून बनाएगा और उस बनाए कानून से महिलाओं को लाभ भी प्राप्त हो। 

भारतीय दण्ड साहिता – 1973 के SECTION – 125 , 128 के अनुसार पत्नियों को पति से भरण – पोषण मिलने का अधिकार है। 

IPC की धारा – 292 , से लेकर धारा – 295 तक महिलाओं से अश्लीलता , अपमान करना , के अपराधों को दर्शाया गया है। इन धाराओं का उद्देश्य महिलाओं के प्रति उदार , सम्मान दिलाना है।