Law Of War Kya Hota Hai || Best Legal information News 2022
Like and Share
Law Of War Kya Hota Hai || Best Legal information News 2022
578 Views

Law Of War – यह एक प्रकार का कानूनी शब्द है। जिसका अर्थ होता है, नियमों की जंग | जो वस्तुतः महाभारत कालीन युद्ध शैली पर आधारित है। और वर्तमान समय में कुछ संसोधनों के साथ 196 देशों ने इसे मंजूरी दी है।

Law Of War Kya Hota हैँ – जाने युद्ध के नीयम क्या होते हैँ। और किन जगहों पर हमला करना अपराध माना जाता हैँ। आखिरकार इन नियमों को बनाने का उद्देश्य किया था। यह जानने के लिए यह आर्टिकल पूरा पढ़े।

आपने यह कहावत जरूर सुनी होगी कि इश्क और जंग में सब जायज है. और इश्क का तो पता नहीं, लेकिन जंग ( Jung )में सब कुछ जायज नहीं होता. जंग लड़ने के अपने नियम ( Rules )होते हैं. और अपने कायदे होते हैं. और इन्हीं नियमों के हिसाब से हमेशा जंग लड़नी होती है और जीतनी ( Win ) होती है. और अगर किसी जंग ( Jung ) में इन नियमों को तोड़ा जाता है तो उसे युद्ध अपराध ( War Crime ) कहा जाता है

आपने यह कहावत जरूर सुनी होगी कि इश्क और जंग ( Law Of War ) में सब जायज है. और इश्क का तो पता नहीं, लेकिन जंग ( Jung )में सब कुछ जायज नहीं होता. जंग लड़ने के अपने नियम ( Rules )होते हैं. और अपने कायदे होते हैं. और इन्हीं नियमों के हिसाब से हमेशा जंग लड़नी होती है और जीतनी ( Win ) होती है. और अगर किसी जंग ( Jung ) में इन नियमों को तोड़ा जाता है तो उसे युद्ध अपराध ( War Crime ) कहा जाता है.

फिलहाल अब कोरोना से उबर रही दुनिया के सामने रूस ( Russia )और यूक्रेन की जंग ने नया संकट खड़ा कर दिया है. और यूक्रेन पर रूस के हमले बढ़ते जा रहे हैं. और एक हफ्ते से दोनों के बीच जंग ( Jung )जारी है और अब तक जंग ( Jung )किसी अंजाम तक नहीं पहुंची है.

Law Of War – यूक्रेन ( Ukraine ) की राजधानी कीव पर कब्जे को लेकर सोमवार से रूसी ( Russia ) हमले बढ़ गए हैं. न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सोमवार को रूस ( Russia ) ने यूक्रेन पर 400 से ज्यादा मिसाइलें दागी हैं. और रूस ने सोमवार को कीव ( Kiw ) के एक टीवी टॉवर को भी मिसाइल से हमला ( Attack ) कर उड़ा दिया. और दावा है कि टीवी टॉवर पर हमले में 5 आम नागरिक ( Cityjan ) भी मारे गए हैं.


Read Me –

What is the Relation Parole with Criminal in Law, Best 2022


Law Of War – और राजधानी कीव और दूसरे बड़े शहर ( Citys ) खारकिव में लगातार हो रहे रूसी हमलों ( Attack ) को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने ‘युद्ध अपराध’ ( War Crime ) बताया है. और उन्होंने इसकी तुलना ‘आतंक’ से की. और उन्होंने ये भी कहा, ‘ना  कोई माफ करेगा, ना  कोई भूलेगा 

Law of War images 1

1949 में बनाए गए  युद्ध के नियम

Law Of War – साल – 1939 से 1945 तक दूसरा विश्व युद्ध हुआ. और भयंकर तबाही मची. और लगभग साढ़े 5 करोड़ से ज्यादा लोग मारे गए. और इसी विश्व युद्ध में पहली बार परमाणु बम ( Nukliyar ) का भी इस्तेमाल हुआ. और दूसरे विश्व युद्ध जैसी तबाही फिर न हो, और इसे रोकने के लिए दुनिया ( World ) के सारे देशों के नेता साल -1949 में स्विट्जरलैंड की ( Capital ) राजधानी जेनेवा में एकजुट हुए. और इसे जेनेवा कन्वेंशन कहा जाता है.

Law Of War – जेनेवा में जब इकट्ठा  हुए सारे देशों के नेताओं ने मिलकर कुछ नियम ( Rules ) बनाए. वह  नियम थे युद्ध ( War ) के. नीयम इनमें तय हुआ कि कोई लड़ाई किस प्रकार  लड़ी जाएगी? और जंग में किसे मारा जा सकता है और किसको  नहीं? और किसे टारगेट किया जा सकता है और किसे नहीं , और कैसे हथियारों का इस्तेमाल होगा। 

Law Of War in Hindi – और जब जेनेवा कन्वेंशन के दौरान युद्ध को लेकर जो नियम बने, उसे ही इंटरनेशनल ह्यूमैनेटिरियन लॉ (International Humanatarian Law) भी कहा गया. और इसे लॉ ऑफ वॉर (Law Of War) भी कहते हैं. और इसमें कुल 161 नियम ( Rules ) हैं. और इसे सभी 196 देशों ने मान्यता दी है. युद्ध के वक्त  इन नियमों का पालन करने के लिए सभी देश ( Country ) बाध्य हैं.

और इसमें ये भी लिखा है कि कब जंग ( War ) के दौरान लॉ ऑफ वॉर ( Law Of War ) लागू होगा. और अगर कोई लड़ाई एक ही देश ( Country ) के अंदर चल रही है तो यह  लागू नहीं होगा. BUT  जब दो देशों के बीच लड़ाई हो रही है और उसमें हथियारों ( Wapense ) का इस्तेमाल हो रहा है तो ये कानून ( Kanoon ) लागू होगा. और इन नियमों ( Rules ) को बनाने का मकसद उन लोगों की रक्षा करना था जो जंग ( War ) नहीं लड़ते या जंग लड़ने की कंडीशन  में नहीं होते.

किन जगहों पर हमला कर सकते है। 

नियमों में साफ शब्दों में लिखा है कि जंग ( War ) के दौरान आम नागरिकों को निशाना ( Gun Point ) नहीं बनाया जा सकता. और रिहायशी इलाकों, व इमारतों, व स्कूल, व कॉलेज और घरों को निशाना नहीं बनाया जा सकता. और आम नागरिकों के अलावा मेडिकल वर्कर्स व  पत्रकारों को निशाना नहीं बना सकते.


Read Me –

GK Question Answer: भारत में हीरे की खान कहां है? जानें ऐसे सवाल-जवाब जो परीक्षाओं में पूछे जाते हैं


Law Of War – दुश्मन देश की सेना अस्पतालों और मेडिकल यूनिट पर भी हमला नहीं किया जा सकता. और इन सबके अलावा ऐतिहासिक धरोहरों, या धार्मिक स्थल व  सांस्कृतिक धरोहर पर भी अटैक करना मना है. और आम नागरिकों के लिए बनाए गए शेल्टर पर भी हमला ( Attack ) नहीं कर सकते. व  डिमिलिटराइज्ड जोन में भी अटैक नहीं किया जा सकता. है। 

और  इसके अलावा कोई भी हमला ( Attack ) करने से पहले चेतावनी देनी जरूरी है. और बिना चेतावनी दिए कोई देश किसी दूसरे देश के खिलाफ जंग ( Jung ) शुरू नहीं कर सकता. और इतना ही नहीं, जंग ( Jung ) से प्रभावित इलाकों से आम नागरिकों को निकालने की जिम्मेदारी भी देश ( Country ) पर ही होती है. और आम नागरिकों को शील्ड के तौर पर प्रयोग  नहीं किया जा सकता है। और उन्हें निकलने से भी नहीं रोका जा सकता.है।

Law Of War in Hindi – और युद्ध के दौरान सैन्य ( Army Base ) ठिकानों को निशाना बनाना गलत नहीं होगा. और जंग के समय  अगर दुश्मन देश का सैनिक सरेंडर या आत्मसमर्पण कर रहा है, तो उसके साथ बुरा व्यवहार  नहीं किया जाएगा. और उसका सम्मान किया जाएगा व  उसकी सारी मदद ( Help ) की जाएगी. और अगर युद्धबंदी बनाए जाते हैं तो उनके साथ भी मानवीय व्यवहार ( Behaviour ) करना जरूरी है.