फिजिकल Live In Relationship हुई महँगी, बच्चा पैदा होने पर देना होगा प्रॉपर्टी में हिस्सा | Best Legal News 2022
Like and Share
फिजिकल Live In Relationship हुई महँगी, बच्चा पैदा होने पर देना होगा प्रॉपर्टी में हिस्सा | Best Legal News 2022
139 Views

Live In Relationship – अब महंगे पड़ेंगे फिजिकल रिलेशन बनाने ‘लिव इन’ में जन्में बच्चे को देनी होगी प्रॉपर्टी, और ऐसे ही रेप, और ऐसे ही नाजायज संबंध से पैदा हुए बच्चे भी हैं हिस्सेदार 

Live In Relationship – केरल High Court ने एक युवक को उसके पिता की Property में हिस्सेदार नहीं माना, क्योंकि उस युवक के माता-पिता की शादी नहीं हुई थी। युवक का जन्म Live In Relationship के दौरान हुआ था। अब Supreme Court  ने केरल हाईकोर्ट के फैसले को रद्द करते हुए कहा। …

  • दोनों ही कपल की शादी भले ही न हुई हो, BUT दोनों लंबे समय तक पति-पत्नी की तरह ही साथ रहे हैं।
  • ऐसे में अगर दोनों कपल के DNA टेस्ट में यह साबित हो जाए कि पैदा हुआ बच्चा उन दोनों का ही है, और बच्चे का पिता की संपत्ति पर उसका पूरा हक है।

    यह तो बात हुई Live In Relationship के दौरान पैदा हुए बच्चे की, BUT उन बच्चों की संपत्ति अधिकार का क्या, वह जो बिना शादी के, या तलाक के बाद या दूसरी शादी से पैदा होते हैं। Kanoon बच्चों को लेकर संपत्ति के Rights पर क्या कहता है हमारी टीम द्वारा इस विषय पर हमने बात की फैमिली और क्रिमिनल LAW एक्सपर्ट Advocate सचिन नायक से।

तो चलिए जानते है एक – एक तीखे -कड़वे सत्य सवालों के सही जवाब। ……

1. पहला सवाल – पति व पत्नी साथ रहते हैं। और पति का दूसरी अन्य महिला से अफेयर है तथा उससे बच्चा पैदा हो जाए तो फिर प्रॉपर्टी का बंटवारा कैसे होगा —

Answer – इस प्रकार ऐसे में 2 तरह की संपत्ति गिनी जाएगी

  • पहली वह जो पिता (पति) ने खुद हासिल की है।
  • दूसरी वह जो एक पिता को उनके माता-पिता से मिली है।

शादी के बाद पैदा हुए बच्चों का अधिकार। …

  • पिता की प्रॉपर्टी पर पूरा अधिकार होगा।
  • वहीँ दादा-दादी की संपत्ति पर भी पूरा अधिकार होगा।

Live In Relationship के दौरान पैदा हुए बच्चों का…

  • The Hindu मैरिज एक्ट के सेक्शन 16 के अनुसार Only पिता की संपत्ति पर अधिकार होगा।
  • दादा-दादी की संपत्ति पर Rights होगा या नहीं, अभी इसका फैसला सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग है।

2. दूसरा सवाल – पहली वाइफ से 2 बच्चे हैं और उससे तलाक नहीं हुआ है। पति का किसी दूसरी महिला से Live In Relationship में था और उससे 1 या 2 या इससे ज्यादा बच्चे हैं। फिर क्या होगा। …

Answer – इस प्रकार की सिचुएशन में ऊपर लिखे नियमों के अनुसार ही संपत्ति का बंटवारा होगा तथा सभी बच्चों को पिता की प्रॉपर्टी पर बराबर हिस्सा मिलेगा, BUT अगर पिता ने वसीयतनामा लिखा है तो फिर उस वसीयत में जिनका नाम लिखा है सिर्फ उनका ही संपत्ति पर Rights होगा।

EXP –

  • पिता ने वसीयत में वाइफ के बच्चों को पूरी प्रॉपर्टी दे दी है। तब उस बिना शादी के पैदा हुए बच्चों को प्रॉपर्टी नहीं मिलेगी।
  • अगर पिता ने पूरी प्रॉपर्टी बिना शादी के पैदा हुए बच्चों के नाम लिख दी है तो वाइफ के बच्चों का संपत्ति पर कोई Rights नहीं होगा।
Live In Relationship News images
दैनिक भास्कर द्वारा प्राप्त ( चित्रण )

3. तीसरा सवाल – पहली वाइफ से 1 बच्चा है। और तलाक के बाद दूसरी वाइफ से 2 बच्चे हैं इस कार्य में पिता की संपत्ति का बंटवारा कैसे होगा। …

Answer – लीगल शादी से जन्म लेने वाले पुत्रों का माता-पिता व दादा-दादी की प्रॉपर्टी पर बराबर का अधिकार होगा। और किसी को कम या फिर किसी को ज्यादा संपत्ति नहीं मिलेगी।

4. चौथा सवाल – Live In Relationship में बच्चा होता है तथा बाद में लड़के /पुरुष की शादी दूसरी महिला से हो जाती है फिर पुत्र का पिता की संपत्ति पर अधिकार होगा। …

Answer – मैरिज से पैदा हुए बच्चे का जो पिता की प्रॉपर्टी पर अधिकार होगा, वही अधिकार Live In Relationship में जन्मे बच्चे का भी होगा। वहीँ इसका दादा-दादी की संपत्ति पर अधिकार नहीं होगा।

5. पांचवा सवाल – वकील साहब बलात्कार की वजह से जन्म लेने वाले बच्चे का बायोलॉजिकल पिता की प्रॉपर्टी पर क्या अधिकार है। 

Answer – साल 2015 में एक मामला आया था। इलाहाबाद High Court की लखनऊ पीठ ने अपने एक Order में कहा था कि बलात्कार के कारण जन्मे बच्चे का अपने बायोलॉजिकल पिता की प्रॉपर्टी में अधिकार होता है।

हालांकि यह Rights पर्सनल लॉ का विषय है। Court ने यह भी कहा कि वह जो बच्चा या बच्ची उस बायोलॉजिकल पिता की नाजायज संतान/ पुत्र  के तौर पर ही देखी जाएगी। और अगर बच्चा या बच्ची को कोई गोद ले लेता है तो फिर उसका बायोलॉजिकल पिता की प्रॉपर्टी में अधिकार समाप्त हो जाता है।

Danik Bhaskar News images 1
दैनिक भास्कर द्वारा प्राप्त ( चित्रण )

चलते-चलते जान लेते हैं

जिन्हें लगता है कि माता-पिता की प्रॉपर्टी और दादा-दादी की प्रॉपर्टी, दोनों पर ही उनका हक है तो उन्हें बता दे कि ऐसा नहीं है। दोनों प्रॉपर्टी अलग-अलग हैं। इसे इस तरह से समझते हैं…

माता-पिता की प्रॉपर्टी- इसे खुद से कमाई हुई संपत्ति भी कहते हैं। ऐसी प्रॉपर्टी को माता-पिता जिसे चाहें उसे दे सकते हैं। या फिर बच्चों को अपनी प्रॉपर्टी से बेदखल भी कर सकते हैं। जरूरी नहीं कि वह बच्चों को ही दें। अगर माता-पिता ने अपने निधन से पहले प्रॉपर्टी किसी के नाम नहीं की है तो इसमें बेटे और बेटी का एक समान अधिकार होता है।

दादा-दादी की प्रॉपर्टी- इसे पुश्तैनी संपत्ति भी कहते हैं। अगर दादा-दादी के नाम कोई प्रॉपर्टी है तो उसमें नाती, पोता, पोती या नातिन का बराबर हक होता है। अगर पुश्तैनी प्रॉपर्टी बेची जाती है या उसका बंटवारा होता है तो बेटियों को भी उसमें हिस्सा मिलेगा। एक बार अगर पुश्तैनी प्रॉपर्टी का बंटवारा हो गया तो हर उत्तराधिकारी को मिला हिस्सा उसकी खुद कमाई हुई प्रॉपर्टी बन जाएगी।