क्या पति अपनी पत्त्नि के साथ ( Marital Rape )वैवाहिक दुष्कर्म कर सकता है?| पढ़े दुनिया के और देशों का कायदा कानून || Best 2022

दैनिक भास्कर द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार

Like and Share
क्या पति अपनी पत्त्नि के साथ ( Marital Rape )वैवाहिक दुष्कर्म कर सकता है?| पढ़े दुनिया के और देशों का कायदा कानून || Best 2022
244 Views

Marital Rape Law IN Hindi – Delhi High Court के दो जजों की बेंच ने बुधवार के दिन को वैवाविक दुष्कर्म को लेकर खंडित फैसला सुनाया है। और जहां एक जज ने सेक्शन -375 को संविधान के अनुच्छेद -14 का उल्लंघन माना है। BUT वहीं दूसरे जज ने इस वैवाहिक दुष्कर्म को अपराध की श्रेणी में नहीं माना है। 

Marital Rape – Delhi High Court के जजों के खंडित फैसले के बाद से वैवाहिक दुष्कर्म का विवाद एक बार फिर चर्चा में आया है. और जिसे लेकर कानून के पक्षकारों समेत समाज में विभिन्न लोगों की राय भी बंटी हुई है. आइये आखिरकार क्या होता है वैवाहिक दुष्कर्म और क्या कहता है India का कानून? और Other देशों में इसे लेकर क्या कानून है? इस मामले से जुड़े ऐसे तमाम सवालों के जवाब के बारे में आपको बताते हैं.

 वैवाहिक दुष्कर्म क्या होता है। 

Marital Rape News – जब पति अपनी पत्त्नि पर किसी प्रकार के बल का प्रयोग कर अपनी वाइफ की सहमति के बिना उसका यौन उत्पीड़न करता है Law की भाषा में उसे वैवाहिक दुष्कर्म कहा जाता है.और इस प्रकार के मामलों में पति अक्सर पत्त्नि को चोट पहुंचाकर या फिर धमकी देकर या अन्य किसी बात का डर दिखाकर जबरदस्ती उसकी मर्जी के बिना संबंध स्थापित है.

इस कथन पर भारत का कानून क्या कहता है। 

Marital Rape In Law – अगर कोई पीड़ित महिला अपने पति के खिलाफ इस तरह के दुष्कर्म की शिकायत करती है तो उस पति पर बलात्कार करने का मामला दर्ज नहीं हो सकता है. क्योकि भारतीय कानून में IPC की धारा – 375 में वैवाहिक दुष्कर्म को एक अपवाद की संख्या बताया गया है. IPC की धारा 375 के अनुसार यह की अगर पत्त्नि की उम्र 18 साल या इससे  अधिक है तथा पति ने पत्त्नि के इच्छा के बिना उसके साथ संबंध बनाए हैं तो यह दुष्कर्म की परिभाषा में नहीं माना जाएगा।

सरकार की वैवाहिक दुष्कर्म को लेकर क्या राय है। 

Marital Rape Case – Indian Government ने इस तरह के वैवाहिक दुष्कर्म को रोकने के लिए एक सशक्त कानून बनाए जाने का समर्थन किया है. तथा इस कार्य के लिए सरकार का मानना है कि इस प्रकार Kanoon में वैवाहिक महिला को उसके पति द्वारा यौन उत्पीड़न को रोकने में कानूनी शस्त्र के रूप में कार्य करेगा.


यह भी पढ़े –

Sunday Jazbaat : मुंबई ग्लैमर दुनियाँ का काला सच जिसने एक्टर को बनाया बार डांसर | Best True Story 2022


Government की मानें तो वैवाहिक दुष्कर्म के बढ़ते मामलों को अपराध मुक्त भारतीय समाज में विवाह की व्यवस्था को अस्थिर कर सकता है. और इसकी रोकथाम व महिला की सुरक्षा तथा सम्मान के लिए इस Kanoon की सख्त आवश्यकता है.

जाने कितने देशों में वैवाहिक दुष्कर्म अपराध है 

Marital Rape पर पोलैंड विश्व का ऐसा पहला देश है जिसने वैवाहिक दुष्कर्म को अपराध की श्रेणी में रखा है. और पोलैंड में साल 1932 में ही यह कानून वैवाहिक दुष्कर्म के खिलाफ कानून बना दिया गया था. और उसके बाद इंटरनैशनल लॉ ऑर्गनाइजेशन ने साल 2018 तक की एक रिपोर्ट के अनुसार –

विश्व भर में मात्र -77 इस तरह के देश हैं जहां पर वैवाहिक दुष्कर्म को अपराध घोषित करने को लेकर बहुत ही स्पष्ट कानून बने हैं. और 74 इस तरह के देश हैं जहां पर महिलाओं के लिए अपने पति के खिलाफ बलात्कार के लिए आपराधिक शिकायत दर्ज करने के नीयम हैं.

Marital Rape News – और वहीं, 34 देश इस तरह के हैं जहां वैवाहिक दुष्कर्म अपराध नहीं माना जाता है और महिलाओं को अपने पति के खिलाफ वैवाहिक दुष्कर्म के लिए आपराधिक कंप्लेन दर्ज करने का Rights है. और India भी इन 34 देशों की सूची में आता है. और दुनिया के 12 देशों में इस प्रकार का नीयम है कि यदि बलात्कार का आरोपी पीड़ित महिला से विवाह कर लेता है तो उसे सभी प्रकार के आरोपों से बरी कर दिया जाता है.

ये भी पढ़ेंः-

5G Launch Date: भारत में पहली 5जी कॉल इस महीने से संभव, लेकिन पहले होगी स्पेक्ट्रम की नीलामी

Ukraine Russia War: जंग के बीच यूक्रेन के कमांडर ने एलन मस्क से मदद मांगी, कहा- “आपने असंभव को संभव करना सिखाया है”