Telangana High Court – यात्री की अपनी लापरवाही से मृत्यु पर मुआवजा देने का जिम्मेदार नहीं Railway Department | Best Law News 2022
Like and Share
Telangana High Court – यात्री की अपनी लापरवाही से मृत्यु पर मुआवजा देने का जिम्मेदार नहीं Railway Department | Best Law News 2022
299 Views

Telangana High Court – यात्री रेलवे ट्रैक क्रॉसिंग में अपनी लापरवाही से मृत्यु को प्राप्त होता है। तो रेलवे विभाग मुआवजा देने का जिम्मेदार नहीं है। तेलगांना हाई कोर्ट

Telangana High Court ने माना कि रेलवे अधिनियम की सेक्शन -124 ए के अनुसार रेलवे ट्रैक पार करने में अपनी लापरवाही से होने वाली Passenger की मृत्यु होने पर रेलवे क्षतिपूर्ति के लिए उत्तरदायी नहीं है।

जस्टिस G . अनुपमा चक्रवर्ती ने कहा कि क्लेम तभी दिया जाएगा जब “यह अप्रिय घटना” का मामला बनता है।

जज पीठ ने कहा :-

Telangana High Court – “अवलोकन द्वारा मृतक के बेटे के मौखिक साक्ष्य से पता चलता है कि Accident मृतक द्वारा ट्रैक पार करने की लापरवाही का परिणाम थी। और इसलिए अपीलकर्ता रेलवे से किसी भी प्रकार से मुआवजे के हकदार नहीं हैं।”

वाद मामले के संक्षिप्त तथ्य :-

Telangana High Court – इस मामले की पूर्ण सच्चाई यह है कि 06.मई .2008 को मृतका अपने निकट सम्बन्धियों के साथ हावड़ा-तिरुपति एक्सप्रेस Train में सवार हुई थी। कंदुकुरु जाने के क्रम में वह Platform से नीचे उतर गई और जब मृतका ने Platform पर चढ़ने का प्रयास किया तो कवाली की ओर से Train नवजीन एक्सप्रेस बिना सीटी बजाए Suddenly  आ गई


Read Me –रिलीज डीड( Release Deed ) संपत्ति मामलों में लाभ | Best 2022


तथा जब मृतका पीछे की ओर बढ़ी तो साड़ी Train में उलझने के कारण वह चल नहीं सकी। और इससे वह नीचे गिर गई और Train ने उसे टक्कर मार दी। और उसकी On The Spot मौत हो गई। इस घटना को लेकर आवेदकों ने रेलवे से 8,00,000/- रुपये के Claim का दावा किया।

Telangana High Court ( images 2 )

Telangana High Court -ट्रिब्यूनल ने क्लेम की अर्जी खारिज कर दी। और रेलवे Claim ट्रिब्यूनल, सिकंदराबाद द्वारा पारित Order को चुनौती देते हुए यह अपील दायर की गई थी। यह अपीलकर्ता ट्रिब्यूनल के समक्ष दावेदार हैं।

अपीलकर्ता ने यह तर्क दिया कि न्यायाधिकरण ने उचित परिप्रेक्ष्य में पर्याप्त सबूतों की सराहना किए बिना आक्षेपित Order पारित किया था।

Railway के सरकारी वकील ने तर्क दिया कि मृतक की मृत्यु Train के आने के दौरान पटरियों को पार करने की उसकी अपनी लापरवाही के कारण हुई थी, इसलिए आप इसे एक अप्रिय घटना नहीं कहा जा सकता है। , ( Telangana High Court )

न्यायालय की जाँच अवलोकन :- 


Telangana High Court – न्यायलय ने पाया कि मृतक की मृत्यु ट्रेन से दुर्घटनावश गिरने के कारण नहीं हुई थी इसलिए इसे एक अप्रिय घटना करार दिया जा सके। मृतक के पुत्र ने जिरह में भी स्वीकार किया कि घटना उसकी माता की लापरवाही के कारण हुई है। और इसके अलावा, मृतक ने Railway Station में फुट-ओवर ब्रिज का उपयोग नहीं किया।

इसके बजाय रेलवे ट्रैक अर्थात पटरियों को पार किया है। यह एक आपराधिक अतिचार होगा। व इसके अलावा, अपीलकर्ता द्वारा इस बात का कोई साक्ष्य नहीं था कि मृतक की साड़ी पटरियों पर कैसे फंस गई थी तथा जिसके कारण यह दुर्घटना हुई।

रेलवे अधिनियम की सेक्शन -124ए के अनुसार कोई अप्रिय घटना होने पर रेलवे प्रशासन क्लेम का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी है।

Telangana High Court – अतः माननीय न्यायलय ने माना कि इस मामले में आवेदक यह साबित करने में विफल रहे कि मृतक महिला की मृत्यु एक अप्रिय घटना के कारण हुई थी। और इसलिए, अपीलकर्ता Railway से किसी भी Claim के हकदार नहीं है और इस कारण अपील खारिज कर दी गई थी।

केस  शीर्षक – नुकाला वेंकटेश्वरु का निधन And Other  बनाम भारत संघ, महाप्रबंधक, व सिकंदराबाद द्वारा प्रतिनिधि 

Download Judgement