ZERO FIR क्या है। यह कब दर्ज कराई जाती है। | Best 2021
Like and Share
ZERO FIR क्या है। यह कब दर्ज कराई जाती है। | Best 2021
1,762 Views

ZERO FIR Kya Hai in Hindi – जीरो अफआईआर एक ऐसी कानूनी व्यवस्था है। जिसमें पीड़ित आवेदनकर्ता आपराधिक घटना को अपने क्षेत्र के थाने में दर्ज न करवा कर दूसरे शहर के थाने में दर्ज करवाता है। जीरो अफआईआर कहलाती है।

ZERO FIR ( images 2 )

ZERO FIR in Hindi – भारत देश में सभी नागरिकों को सुरक्षा प्राप्त करने का अधिकार प्राप्त है। और यह हमें भारतीय सविधान के अनुच्छेद – 21 मूल अधिकार से प्राप्त है। भारतीय सविधान मेँ अनुच्छेद – 21 का विस्तार बहुत बड़ा है। सभी भारतीयों को प्राण और दैहिक सवतंत्रा का संरक्षण का अधिकार प्राप्त है।

ZERO FIR in Hindi  – आज के समय में हर गांव हर शहर में पुलिस स्टेशन की स्थापना की है। BUT कुछ प्रभावशाली व्यक्तियों के प्रभाव के कारण सही से नहीं कर पाती है। आपके मन में यह प्रश्न जरूर आया होगा की जीरो अफआईआर का क्या उद्देश्य है व किस प्रकार कानूनी प्रक्रिया को अपनाया जाता है। आज हम इस विषय पर विस्तार से चर्चा करगे।

कानून ने अपराधों को दो श्रेणी में रखा है।

1 – NON – Cognizable Offence 👉 इस अपराध के अन्तर्गत मारपीट , लड़ाई -झगड़ा , गाली -गलौच करना आदि आते है। पुलिस इस प्रकार की शिकायतों पर जाँच कर रिपोर्ट दर्ज करती है व उस रिपोर्ट का एक नंबर देती है। और रिपोर्ट को शिकायत के आधार पर मजिस्ट्रेट के पास रेफर करती है। जहाँ अदालत द्वारा दोषी पार्टी को समन जारी कर बुलाया जाता है।

इस प्रकार के मामलों में पुलिस को यह अधिकार भी प्राप्त होता है। कि दोनों पक्ष का समझोता कराकर व मनमुटाव समाप्त करके यह केस बंद कर दिया जाए।

2 – Cognizable Offence 👉 इस प्रकार के अपराध गम्भीर श्रेणी में आते है। जैसे – हत्या करना , बलात्कार करना ,गोली चलाना आदि अपराध आते है। ऐसे अपराधों में पुलिस CRPC की धारा 154 के अनुसार केस दर्ज करती है।

जीरो अफआईआर की आव्यशकता क्यों हुई ?

ZERO FIR in Hindi – आपको याद होगा की वर्ष 2012 में दिल्ली निर्भया केस हुआ था। यह एक हैवानियत सामूहिक बलात्कार का केस था। और इस केस में कानून की कमियों को भी उजागर किया व इसके बाद एक सिमिति का गठन हुआ व सिमिति के अध्यक्ष जस्टिस वर्मा को बनाया गया और उन्होंने आपराधिक कानून में संशोधन की सिफारिश की थी। जस्टिस वर्मा जी ने कहा की महिलाओं के साथ अत्याचार की घटनाओं को कम करने व जल्दी कार्यवाही और सजा को बढाने और मुख्य रूप से जीरो अफआईआर पर विशेष बल दिया गया था।


इसको भी पढ़े – Couple Legal Rights In Hindi – कपल्स के कानूनी अधिकार | Best 2021 


इसको भी पढ़े – ( Divorce )भारत में आपसी सहमति से तलाक कैसे लें | Best 2021 


शिकायतकर्ता को जीरो अफआईआर का फायदा किस प्रकार प्राप्त होता है।

1 – दोषी व्यक्ति का पुलिस में अधिक प्रभाव है और शिकायतकर्ता की किसी भी प्रकार से सुनवा नहीं होती है। आप दूसरे शहर के थाने में जीरो अफआईआर दर्ज कर कार्यवाही करवा सकते है।

2 – आपके किसी पारिवारिक सदस्य / रिश्तेदार या निजी सम्बन्धी को कोई परेशानी है। और वह आपसे दूर निवास स्थान पर रहता है। आप उस तक अपनी सहायता पहुँचा सकते है।

3 – जहाँ पर घटना हुई है। और आपने घटनास्थल छोड़ दिया है आप दूर रह कर भी दोषी के खिलाफ कार्यवाही कर सकते है।


Read Me – जब अपराध क्षेत्राधिकार के बाहर किया गया हो तो ज़ीरो FIR का पंजीकरण अनिवार्य : दिल्ली हाईकोर्ट 


उदाहरण – 1 👉 जीरो FIR का आपकी बेटी / बहन आदि को लाभ कैसे मिलेगा।

ZERO FIR – आपकी बेटी का दूर क्षेत्र के शहर में विवाह हुआ है। और एक दिन आपकी लड़की का फोन आता है की मेरे पति मेरे साथ मारपीट कर रहे है। तथा फोन बंद हो जाता है। और आप बेटी तक पुलिस की सहायता पहुँचाना चाहते है। आप अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में जाकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते है।

पुलिस आपकी शिकायत जीरो अफआईआर में दर्ज कर उस क्षेत्र के थाने को प्रेषित कर देगी। यह कानूनी कार्यवाही तुरन्त अमल में लाई जाती है। व पुलिस वहाँ जा कर स्थिति को संभाल लेती है।

आप पुलिस हेल्प लाइन नंबर – 112 पर भी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते है।

ZERO FIR CASE LAW in Hindi – आशाराम बापू केस क्या है।

ZERO FIR IN HINDI – आपको आशाराम बापू याद होगें वह ( 16 वर्ष की लड़की से बलात्कार के मामले में ) आजीवन कारावास काट रहे है। आप सोच रहे होगें की इस केस का जिक्र क्यों किया जा रहा है। इसको विस्तार से समझने के लिए आशाराम बापू केस को पढ़ते है।

ZERO FIR CASE में आशाराम बापू को जेल ( images 6 )

ZERO FIR in HINDI – शिकायतकर्ता का बलात्कार जोधपुर में हुआ था। वह भी वर्ष – 2013 से पहले BUT पीड़िता ने दिल्ली के पुलिस स्टेशन में आकर जीरो FIR में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। और FIR दर्ज होने के बाद जाँच होती है। तथा जांच पूरी होने पर उस क्षेत्र के थाने को रिपोर्ट भेज दी जाती है व दर्ज FIR को एक नंबर प्रदान कर दिया जाता है।

गुजरात की दो बहनो द्वारा बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज करवाना

ZERO FIR in Hindi – जोधपुर केस में आशाराम बापू की गिरफ़्तारी होने के बाद गुजरात की दो बहनों ने आशाराम व उनके पुत्र नारायण साई पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। शिकायत के अनुसार ( साल 2001 से 2006 के ) बीच कई बार शोषण किया गया था। साल 2013 में उनके बेटे को भी गिरफ्तार कर लिया गया था।

ZERO FIR in HINDI – आशाराम बापू ने किस प्रकार गवाहों को धमकी व हत्या करवायी 

1 – इस केस की सुनवाई कर रहे मनोज कुमार व्यास सेशन जज धमकी दी गई और आशाराम को बेल देने का दबाव बनाया गया। तथा आशाराम बापू की सुरक्षा कर रहे एसएचओ ( S.H.O ) को धमकी दी गई।

2 – गुजरात की जिन बहनों द्वारा आशाराम व बेटे पर आरोप लगाए थे। उनके पति पर जानलेवा हमला भी किया गया। जिससे वह अपना केस वापस लें।

3 – आशाराम बापू के आर्युवैदिक डाक्टर अमूर्त प्रजापति को गोली मारकर हत्या की गई। वह गुजरात केस के गवाह थे। और वह केस से बच सकें।

4 – गुजरात की दोनों बहनों का आशाराम बापू के कमरें में जानें के गवाह रसोईया अखिल गुप्ता को गोली मारकर हत्या की गई।

5 – जोधपुर केस के गवाह व चिकित्सक राहुल सच्चन को कोर्ट परिसर में चाकू से हत्या कर दी गई।

ZERO FIR in Hindi – इस प्रकार आशाराम बापू द्वारा केस से सम्बन्धित सभी गवाहों को धमकाना , हत्या तथा केस वापस लेने का दबाव डालना आदि कार्य किये गए फिर भी वह कानून से नहीं बच पाए।

जीरो अफआईआर पुलिस दर्ज करने से मना करती है आप क्या एक्शन ले सकते है।

प्रश्नः वकील साहब , जीरो FIR किस धारा के अंतर्गत आती है।

ZERO FIR – धारा – 154 के तहत प्रधम सुचना रिपोर्ट दर्ज की जाती है।  यह लिखित / मौखिक दोनों ही प्रकार की हो सकती है।  जिसे थाने के भारसाधक अधिकारी द्वारा लेख – बद्ध कर प्रेषित किया जाता है।

धारा – 166 A IPC के  अनुसार खण्ड – क , , ग मे भी संज्ञेय अपराधों के लिए  अर्थात , लोक सेवक , जो विधि के अधीन निदेश की अवज्ञा करता है।  कठोर कारावास व जुर्माने से दण्डित होगा।  

स्त्रियों से सम्बंधित हुए अपराधों के लिए जैसे  – बलात्कार , लैंगिक अपराध , दूर्वाह्वयार आदि के लिए IPC की विशिस्ट धाराओं जैसे – 326 , , IPC 354, 354 , IPC 370, 370 , IPC 376 , , , , , के लिए ZERO FIR का विशिस्ट प्रावधान किया गया है।  

पुलिस आपकी शिकायत लिखने से मना करती है। व घटना अपने क्षेत्र में नहीं होने का बहाना करती है। आप उसके खिलाफ विभागीय कार्यवाही कर सकते है। व कोर्ट केस द्वारा भी कार्यवाही की जा सकती है।

ZERO FIR in Hindi – आशा करते है। की इस आर्टिकल में आपको जीरो FIR से सम्बधित सभी जानकारी दी गई है आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो कृपया अपने सभी दोस्तों के साथ LIKE और SHARE करें। आपको यह पोस्ट पढ़ने का धन्यवाद। जय हिन्द जय भारत


Read Me – यह सुनिश्चित हो कि साक्ष्य अधिनियम की धारा 76 के तहत ही निर्णय की प्रमाणित प्रतिलिपि जारी की जाए : सुप्रीम कोर्ट


Loading